आनलाइन फसल सर्वे 2022 : खरीफ वर्ष 2022 में जिले मन्दसौर में किसानों द्वारा विभिन्न फसलें अपने खेत में लगाई गई है। प्रदेश में अक्टूबर में हुई तेज बारिश के कारण कई किसानों की फसलें बर्बाद हो गई है, जिसके चलते हैं सरकार द्वारा वर्ष 2022 में नई स्कीम जारी करते हुए फसलों का ऑनलाइन सर्वे शुरू किया गया है। इसके साथ ही कृषकों द्वारा अधिसूचित फसलों का फसल बीमा भी प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना अंतर्गत कराया गया है। मंदसौर, नीमच और रतलाम जिले के कुछ हिस्सों में हों रहीं लगातार वर्षा के कारण किसानों के खेतों में पानी भर गया है और खरीफ की फसलों को नुकसान होने की सूचनाएं मिल रही है। किसानों के खेतों में कटी हुई फसलें सड़ने लगी है। इसके लिए सरकार द्वारा आनलाइन फसल बिमा शूरूआत की है।

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना अंतर्गत 72 घंटे के भीतर नुसान की सूचना दी जाना अनिवार्य है, जिससे अतिवर्षा के प्रकरणों में किसानों के खेत का सर्वे कार्य समय सीमा में किया जा सके। चलिए आपको बताते हैं कि आप फसल का सर्वे कराने के लिए कैसे आनलाइन आवेदन कर सकते हैं:-

• कोई भी किसान एग्रीकल्चर इंश्योरेंस कंपनी के टोल फ्री नं. 1800 233 7115 पर फसल नुकसान की सूचना दे सकता है।
• इसके अलावा किसान क्रॉप इंश्योरेंस (Crop Insurance) नामक एप Play Store से डाउनलोड कर एप पर Continue Without Login कर सकता है।
• इसके बाद आपको मोबाइल ऐप में जाकर Crop Loss में जाना होगा।
• इसके बाद आपको ऐप में मोबाईल नं. की जानकारी एवं ओ.टी.पी. वेरीफिकेशन उपरांत सीजन, वर्ष, योजना, राज्य, जिला, तहसील, रिवेन्यू सर्किल, पटवारी हल्का, ग्राम, फसल, सर्वे नं. की जानकारी के साथ एप पर सबमिट करनी होगी।
• इस प्रकार आप बारिश की वजह से बर्बाद हुई फसल की आनलाइन शिकायत कर सकते हैं।

सभी किसान भाइयों से विनम्र अनुरोध है कि अपनी फसल का फसल बीमा होने पर अतिवर्षा से फसल नुकसान की सूचना अवश्य दें और प्रधानमंत्री फसल बीमा का लाभ उठायें।

🌾🌾 किसान हित के लिए ज्यादा से ज्यादा किसान भाइयों को शेयर करें 🌾🌾

मौसम समाचार: मध्यप्रदेश सहित मंदसौर में दिवाली पर हो सकती है बारिश,20 अक्टूबर तक हाई अलर्ट, आधे प्रदेश में तेज बारिश

One thought on “किसानों को मिलेगा मुआवजा: 2022 में बारिश से बर्बाद हुई फसलों का ऑनलाइन सर्वे, जानिए आपको क्या करना है।”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *