मध्यप्रदेश न्यूज़:- मध्यप्रदेश के मंदसौर जिले में पुलिस प्रशासन द्वारा 6 अक्टूबर से 20 अक्टूबर तक एक विशेष अभियान चलाया गया है जिसके तहत आप चाहे दफ्तर, स्कूल या कहीं पर भी दो पहिया वाहन लेकर जा रहे हैं, तो आप बिना हेलमेट के सड़क पर नहीं आ सकेंगे। यह अभियान प्रशासन द्वारा नागरिकों में जागरूकता एवं सड़क हादसे कम करने के लिए चलाया गया है। अगर आप दो पहिया वाहन से किसी भी स्थान पर जा रहे हैं तो हेलमेट लेना नहीं भूले क्योंकि 6 अक्टूबर के बाद बिना हेलमेट के आपको किसी भी दफ्तर, स्कूल, कॉलेज और निजी दफ्तर कहीं पर भी प्रवेश नहीं मिलेगा।

मध्यप्रदेश न्यूज़:- इस अभियान के तहत हेलमेट नहीं पहनने वालों को सिर्फ इतनी ही सजा नहीं बल्कि प्रशासन का कहना है कि हेलमेट नहीं पहनने वालों को पंप पर पेट्रोल भी नहीं दिया जाएगा। इसके अलावा हेलमेट नहीं पहनने पर ट्राफिक पुलिस द्वारा जुर्माना भी लगाया जाएगा। मध्य प्रदेश पुलिस मुख्यालय के अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक जी जनार्दन ने उच्च न्यायालय जबलपुर के पत्र पर सभी पुलिस अधीक्षकों को पत्र जारी किए हैं। दोपहिया वाहन चलाते समय हेलमेट नहीं पहनने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने, सरकारी और निजी ऑफिस, संस्थाओं स्कूल और कॉलेज में बिना हेलमेट के प्रवेश नहीं देना एवं सरकारी कर्मचारियों को बिना हेलमेट के पार्किंग में गाड़ी खड़ी नहीं करने देने के बारे में लिखा गया है। इसके अलावा, ढाबा, होटल, रेस्टोरेंट और मोल में भी बिना हेलमेट के प्रवेश नहीं दिया जाएगा। बिना हेलमेट वाले वाहनों को पार्किंग में गाड़ियां खड़ी नहीं करने दी जाएगी। यातायात पुलिस द्वारा इस अभियान के अंतर्गत चालानी कार्यवाही के साथ-साथ लोगों को जागरूक किया जाएगा।

कार्यालय प्रमुख विभागीय द्वारा कार्रवाई की जाएगी

मध्यप्रदेश न्यूज़:- एसपी अनुराग सुजनिया ने जानकारी देते हुए बताया कि सभी नीजी और सरकारी कार्यालयों प्रमुख को अपने कर्मचारियों को हेलमेट में आने की हिदायत देनी चाहिए। अगर कोई भी व्यक्ति कहने के बाद भी हेलमेट नहीं पहनता है, तो उस पर विभागीय कार्यवाही की जाएगी। एसपी ने बताया कि बिना हेलमेट वाले लोगों को पंप पर पेट्रोल भी नहीं दिया जाएगा और अगर कोई पेट्रोल पंप बिना हेलमेट वालों को पेट्रोल देगा तो पंप पर सख्त कार्रवाई की जाएगी। इसलिए सभी लोगों से विनती है कि सभी दो पहिया वाहन पर हेलमेट अवश्य पहने ताकि व्यवस्था में सुधार आ सके और सड़क हादसे भी कम हो जाए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *