मंदसौर न्यूज़: मंदसौर जिले में पहली बार आनर किलिंग का मामला सामने आया था। कुछ दिनों पहले दलौदा थाना क्षेत्र में हुई हत्या का खुलासा करते हुएं पुलिस ने अपचारी भाई, उसके साथियों और लड़की के पिता को आरोपी बनाया है। पुलिस ने मामले का खुलासा करते हुए बताया कि अपचारी भाई और लड़की के पिता ने ही मिलकर लाश को 4 दिन बाद ठिकाने लगाया था। जब पुलिस ने मामले की सुनवाई में दिलचस्पी नहीं बताई तो नाटक के परिजनों द्वारा लड़की के पिता पर हत्या की आशंका जताते हुए विरोध प्रदर्शन किया गया था। दलोदा थाना प्रभारी संजीव सिंह परिहार ने जानकारी देते हुए बताया कि 26 सितंबर को नाटक के परिजनों ने शिकायत दर्ज कराई थी कि उनका बेटा वासुदेव दलोदा कृषि उपज मंडी में किस्त जमा कराने गया था लेकिन अभी तक नहीं लौटा है।

मंदसौर न्यूज़: इसके बाद पुलिस ने जांच शुरू की तो पता चला कि मृतक का गांव की ही किसी लड़की से प्रेम प्रसंग था। इसके बाद लड़की के भाई और उसके साथियों ने मिलकर प्रेमी की हत्या कर दी और पुलिस की पूछताछ में उन्होंने बताया कि गोपाल सिंह डोडिया निवासी हतुनिया के खेत पर स्थित कुएं में लाश को पत्थर से बांध कर फेंक दिया है। तलाशी के दौरान कुएं से शव बरामद किया गया लेकिन शव के दर्शन नहीं होने के कारण परिजनों ने कपड़े और बेल्ट से युवक को पहचाना। आरोपियों ने पुलिस को बताया कि उन्होंने युवक की हत्या के बाद शव को वहीं छोड़कर भाग निकले और चाकू और अन्य हथियार नदी में फेंक दिए और मौसी के गांव चले गए।

मंदसौर न्यूज़: पुलिस की पूछताछ पर आरोपियों ने यह भी बताया कि जब मृतक के परिजनों ने 26 सितंबर को थाने में गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराई तो 27 सितंबर को लड़की के पिता और भाई रात 3:00 बजे घटनास्थल निर्माणाधीन सरस्वती स्कूल पहुंचे और युवक के शव को बोरे में भरकर हतुनिया के एक कुएं में पत्थर बांधकर फेंक दिया। पुलिस ने अपचारियों को बाल सुधार गृह भेजा है। गुमशुदा की जांच में देरी का मुख्य कारण गांव के ही नेता बंशी दा का नाम प्रमुखता से सामने आया है। परिजनों द्वारा गुमशुदगी की रिपोर्ट और संदेह जताने के बाद भी पुलिस ने आरोपियों से पूछताछ नहीं की। गांव के ही भाजपा नेता बंशी दा के हस्तक्षेप के चलते पुलिस हस्तक्षेप के चलते पुलिस ने मामले की जांच में दिलचस्पी नहीं बताई थी। मामले का खुलासा होने के बाद एसपी अनुराग सुजानिया ने एस आई के एल यादव को निलंबित कर दिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *