5G Network India: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 1 अक्टूबर को देश में 5G सेवा लॉन्च की थी। इसके बाद एयरटेल 8 शहरों और रिलायंस जियो 4 शहरों में यह सेवा दे रही हैं। हालांकि कई कंपनियों के हैंडसेट 5G नेटवर्क को सपोर्ट नहीं कर रहे हैं। इस शिकायत के बाद टेलीकॉम सचिव के राजारमन ने बुधवार को टेलीकॉम ऑपरेटर्स और मोबाइल हैंडसेट निर्माता 30 कंपनियों के प्रतिनिधियों की बैठक बुलाई। इसमें दूरसंचार विभाग और इलेक्ट्रॉनिक्स एंड इंफॉरमेशन टेक्नोलॉजी विभाग के अफसरों ने कंपनियों के प्रतिनिधियों से कहा कि वे तीन महीने के भीतर 5G स्मार्टफोन को 5 सेवाओं के अनुकूल बनाएं।

5G फोन में सॉफ्टवेयर लॉक, अपडेट से खुलेगा; ऑपरेटर-निर्माताओं ने एक-दूसरे पर दोष मढ़ा

5G Technology: सूत्रों के मुताबिक, एक घंटा से अधिक समय चली बैठक में टेलीकॉम ऑपरेटर और स्मार्टफोन कंपनियों ने इस देरी के लिए एक-दूसरे पर आरोप लगाए हैं। बैठक में स्मार्टफोन कंपनियों ने सहमति जताई कि वे 5G सेवा उपलब्ध कराने वाली कंपनी के साथ हैंडसेट की टेस्टिंग शुरू करेंगी। वहीं एक स्मार्टफोन कंपनी के प्रतिनिधि ने बताया कि वे 10 हजार रु. से अधिक कीमत वाले 3जी-4जी फोन का उत्पादन धीरे-धीरे बंद कर देंगी और 5जी मोबाइल फोन का उत्पादन बढ़ाएंगी।

यहां हम 5G सर्विस से जुड़े कुछ सवालों के जवाब लेकर आए हैं…

मैं 5G सुविधा वाले शहर में रहता हूं। मेरा मोबाइल भी 5जी सुविधा वाला है, लेकिन यह सुविधा नहीं मिल रही?

5G Technology: जिन शहरों में 5G सेवा लॉन्च हो चुकी है, वहां भी 5G फोन वाले कई लोग इसका लाभ नहीं उठा पा रहे हैं। दरअसल, ऐसे फोन में सॉफ्टवेयर लॉक है। ऐसे लॉक सॉफ्टवेयर अपडेट के जरिए खोले जाते हैं। कुछ कंपनियों ने यह उपलब्ध नहीं कराया है। टेलीकॉम उद्योग के सूत्रों के मुताबिक, 5G सपोर्ट वाला फ्रीक्वेंसी बैंड उपलब्ध न होने से यह समस्या आई। हैंडसेट निर्माता अपडेट जारी करेंगे। कुछ फोन की सेटिंग भी बदलनी होगी।

5जी सेवा तो शुरू हो चुकी है। फिर ऐसा क्यों?

5G Technology: दूरसंचार विभाग के साथ कंपनियों और ऑपरेटर की बैठक में टेलीकॉम ऑपरेटर्स ने सॉफ्टवेयर अपडेट और पैच रोल आउट करने में देरी का ठीकरा हैंडसेट कंपनियों पर फोड़ा। तर्क दिया कि फ्रीक्वेंसी, स्पेक्ट्रम नीलामी और आवंटन समय-सीमा फोन कंपनियों को पता थी। इसके बावजूद काम नहीं किया। वहीं हैंडसेट निर्माताओं ने सफाई दी है कि 5G नेटवर्क ही अभी व्यापक उपलब्ध नहीं है। टेलीकॉम और फोन कंपनियों के बीच कुछ परीक्षण जरूरी हैं, जो नहीं हुए हैं।

5G Technology

मेरा हैंडसेट 5जी एनेबल्ड है या नहीं, कैसे पता चलेगा?

5G Technology: भारत में विभिन्न कंपनियों के 5G सपोर्ट करने वाले 128 मॉडल उपलब्ध हैं। एयरटेल ने ऐसे 116 हैंडसेट की सूची जारी की है। इनमें रियलमी, शाओमी, ओप्पो, विवो, वनप्लस आदि कंपनियों के हैंडसेट हैं। इस लिंक से जान सकते हैं कि आपका सेट 5G एनेबल्ड है या नहीं: www.airtel.in/airtel-5g-handsets

5G network india

मैं टियर-2 शहर में रहता हूं। मुझे 5जी सेवा कब मिलेगी?

5G Technology: भारती एयरटेल ने व्यावसायिक रूप से 5G सेवा लॉन्च की है। यह 8 शहरों में है। ये हैं: दिल्ली, मुंबई, चेन्नई, बेंगलुरू, हैदराबाद, सिलीगुड़ी, नागपुर और वाराणसी। जियो ने बीटा ट्रायल शुरू किए हैं। यह 4 शहरों में है। ये हैं: दिल्ली, मुंबई, कोलकाता और वाराणसी। 2 साल में 5G सेवा का दायरा पूरे देश में फैल जाएगा। जियो ने दिसंबर 2023 तो एयरटेल ने मार्च 2024 तक देश में 5G सेवा का वादा किया है।

5G शुरू होने के प्रमुख फायदे 

अदाणी को लाइसेंस, पर कमर्शियल सेक्टर में आने की संभावना कम

5G Technology: अदाणी समूह की कंपनी अदाणी डेटा नेटवर्क लि. को दूरसंचार सेवाओं के लिए एकीकृत लाइसेंस मिला है। स्पेक्ट्रम लेने के बाद लाइसेंस लेना आवश्यक था। अब कंपनी देश में सभी टेलीकॉम सर्विस मुहैया कराने के लिए सक्षम है। इससे इस बात के कयास लगाए जा रहे थे कि समूह रिटेल कस्टमर सर्विस में उतरकर जियो, एयरटेल और वोडाफोन-आइडिया को टक्कर दे सकता है। हालांकि टेलीकॉम एक्सपर्ट महेश उप्पल के मुताबिक, अदाणी समूह ने जिस मेगाहर्ट्स का स्पेक्ट्रम खरीदा है, उससे सिर्फ सीमित नेटवर्क में सेवा दी जा सकती है। मौजूदा स्पेक्ट्रम से समूह के कमर्शियल सेवा में उतरने की संभावना नहीं है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *