Finence Rules 2022: आने वाले समय में अब अगर आपका किसी भी फील्ड में चेक बाउंस होता है तो आपको कई सारी परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। सरकार इस प्रकार के मामलों से निपटने के लिए कई सारे नियमों पर विचार कर रही है। वित्त मंत्रालय फाइनेंस के क्षेत्र में चेक जारी करने वालों के दूसरे खाते से पैसा काटने और ऐसी स्थिति में दूसरे बैंक अकाउंट खोलने पर रोक लगाने जैसे नियमों पर विचार कर रहा है। वित्त मंत्रालय द्वारा हाल ही में हाई लेवल बैठक बुलाई गई थी जिसमें कई सुझाव पर विचार किया गया था।

Trending News: दरअसल ऐसे मामलों से कानूनी सिस्टम पर दबाव पड़ रहा है लेकिन अब सरकार में कुछ ऐसे नियम निकालने पर विचार किया है जिन्हें कानूनी कार्रवाई से पहले लागू किया जाएगा। इसकी जानकारी क्रेडिट इन्फॉर्मेशन कंपनियों को देने का भी निर्देश दिया गया है, जिसके कारण संबंधित व्यक्ति का क्रेडिट स्कोर कम किया जा सकेगा। अगर यह नियम लागू होते हैं तो चेक बाउंस होने के मामले कम आएंगे और बार-बार अदालतों तक जाने की जरूरत नहीं पड़ेगी। इससे खाते में पर्याप्त बैलेंस नहीं होने के बावजूद भी चेक जारी करने के चलन पर रोक लगेगी।

चेक बाउंस होने पर होने वाले नुकसान

• अगर आपका चेक बाउंस होता है तो आपका नया खाता खोलने पर रोक लग सकती हैं।
• चेक बाउंस होने पर आपको कर्ज चुकाने में चूक माना जाएगा।
• चेक बाउंस होने पर क्रेडिट इन्फॉर्मेशन कंपनियों द्वारा आपकी क्रेडिट कम कर दी जाएगी।
• चेक बाउंस होने पर आपका खाता कुछ दिनों के लिए सस्पेंड हो सकता है यानी कि आपके खाते से पैसे निकलना बंद हो जाएंगे।
• ऐसा कानून भी बनाया जा सकता है जिसमें चेक बाउंस होने की तारीख से 90 दिन के अंदर दोनों पक्षों के बीच विवाद सुलझा लिया जाए।
• भारत सरकार अर्थव्यवस्था को बढ़ावा देने के लिए कारोबार सुगमता पर ध्यान केंद्रित कर रही है। इसलिए चेक बाउंस जैसे मामलों पर विचार करना जरूरी है।
• इसके कारण खरीदार और विक्रेता के बीच अविश्वास के मामले कम हो जाएंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *