Mandsaur ki khabar: मंदसौर जिले में नारकोटिक्स विभाग द्वारा तीनों खंडों के अफीम किसानों को पट्टे वितरण करना शुरू कर दिए गए हैं। सभी अफीम किसान उत्साहित होकर अफीम लाइसेंस लेने पहुंच रहे हैं। लाइसेंस मिलने के बाद किसानों ने अफीम की खेती करने के लिए तैयारी शुरू कर दी है। जानकारी के अनुसार इस बार अफीम के लाइसेंस 3 फेज में दिए जाएंगे। सबसे पहले लांचिंग पद्धति वाले किसानों को, इसके बाद सीपीएस पद्धति वाले किसानों और आखरी में नई अफीम नीति के तहत 1998-99 वाले किसानों को लाइसेंस वितरित किए जाएंगे।

mandsaur ki khabar: अधिकारियों के अनुसार मंदसौर जिले के तीनों खंडों में करीब 17000 किसानों को अफीम के लिए लाइसेंस दिए जाएंगे। 17 अक्टूबर तक प्रथम खंड के सभी किसानों को लाइसेंस वितरित कर दिए जाएंगे जिसमें 4600 किसानों को अफीम लाइसेंस दिए जाएंगे। इसमें 1100 सी पी एस पद्धति के तहत दिए जाएंगे।

mandsaur ki khabar: जिला द्वितीय खंड के अफीम अधिकारी आदित्य रंजन ने जानकारी देते हुए बताया कि द्वितीय खंड के 157 गांवों में 4709 अफीम किसानों को लाइसेंस वितरित किए जाएंगे। इसके अलावा 1425 सीपीएस पद्धति के साथ कुल 6000 किसानों को अफीम पट्टे वितरित किए जाएंगे।

mandsaur ki khabar: जिला तृतीय खंड के अफीम अधिकारी निरंजन गुरु ने जानकारी देते हुए बताया कि तृतीय खंड के 238 गांव के 3870 अफीम किसानों को पट्टे वितरित किए जाएंगे। इसमें दीपावली से पहले ही 1057 किसानों को भी सीपीएस पद्धति के तहत पट्टे वितरित कर दिए जाएंगे। वही करीब 11 सौ किसानों को पुराने पट्टे प्रदान किए जाएंगे।

मंदसौर की खबर: अफीम अधिकारी ने जानकारी देते हुए बताया कि 5 नवंबर तक मंदसौर जिले के तीनों खंडों में सभी अफीम किसानों को पट्टे वितरित कर दिए जाएंगे। पिछले वर्ष के मुताबिक इस वर्ष तीनों खंडों में मिलाकर अफीम पट्टों की संख्या बढ़ गई है। जिन अफीम किसानों के वर्ष 1998-99 में अफीम लाइसेंस निरस्त हो गए थे, उन्हें भी इस बार अफीम पट्टे वितरित किए जाएंगे हालांकि अभी तक इसके नियम स्पष्ट नहीं हो पाए हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *