मध्यप्रदेश न्यूज़: प्रदेश सहित मंदसौर जिले में लंपी वायरस का खोफ लगातार बढ़ते जा रहा है। मंदसौर जिले में रोजाना पशुओं में वायरस के लक्षण नजर आ रहे हैं और तेजी से लंपी वायरस की संख्या बढ़ती जा रही है। पशुपालन विभाग से मिली जानकारी के अनुसार जिले में अब तक करीब दो से अधिक पशुओं की मौत हो चुकी है और 135 गांव में से 371 गोवंश लंपी वायरस की चपेट में आ चुके हैं। हालांकि यह एक सरकारी आंकड़ा है, जबकि हकीकत में वायरस की संख्या जिले में काफी ज्यादा है।

मध्यप्रदेश न्यूज़: प्रदेश और जिले में लंपी वायरस के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए जिला प्रशासन ने आदेश जारी करते हुए कहा है कि जिले में लगने वाले हाट बाजार और सभी पशुओं की खरीदी बिक्री पर रोक लगाते हुए जिले में धारा 144 लागू कर दी गई है। कलेक्टर गौतम सिंह ने जानकारी देते हुए बताया कि पशुओं के परिवहन करते हुए पकडा़ए जाने पर धारा 188 के तहत कार्रवाई की जाएगी। वर्तमान में अभी तक वायरस की कोई भी अच्छी दवाई सामने नहीं आई है। लोगो द्वारा देशी तंत्तर टोटके कर पशुओं की सेवा की जा रही है और वायरस से बचाने का प्रयास किया जा रहा है।

शहर के अवारा मवेशियों पर भी लंपी वायरस का असर

मध्यप्रदेश न्यूज़: मंदसौर शहर में घूम रही आवारा मवेशियों में भी लंपी वायरस के लक्षण पाए गए हैं जिसके बाद जिला प्रशासन द्वारा कुछ गोवंश को कांजी हाउस भिजवाया गया है। इसके साथ साथ ही शहर के पशु प्रेमी युवाओं द्वारा भी स्किन डिजीज लक्षण के मिलने पर इलाज किया जा रहा है। जिला प्रशासन ने एक और आदेश जारी किया है कि अगर कोई बाजारों में अपने पशुओं को छोड़ता है तो उस पर कड़ी कार्यवाही की जाएगी। शहर में वायरस को लेकर चेतावनी जारी की गई है। नगरपालिका की टीम द्वारा शहर में घूम रहे मवेशियों को पकड़ने का कार्य किया जा रहा है।

अपने पशुओं का ख्याल अवश्य रखें

मध्यप्रदेश न्यूज़: पशुपालन विभाग द्वारा सभी पशुपालकों से निवेदन भी किया जा रहा है कि इस खतरनाक वायरस से बचाने के लिए अपने पशुओं का ख्याल अवश्य रखें। अपने पशुओं में थोड़े से लक्षण दिखाई देने पर आस-पास मौजूद पशु चिकित्सक को अवश्य सूचना दें और अपने पशुओं का इलाज अवश्य करवाएं। वायरस से बचाव के लिए दुकानों पर कुछ दवाइयां भी मिल रही है जिन्हें आप बचाव के तौर पर अपने पशु को लगवा सकते हैं। नीचे फोटो में कुछ ऐसी ही दवाइयां आपको बताई गई है।

पशुओ की ताकत के लिए सामान्य दवाई

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *