मंदसौर न्यूज़: लंपी वायरस से बिगड़ रहें हालात,419 गांवों के 1170 मवेशी लंपी की चपेट में आए,टीके खत्म होने से स्वस्थ मवेशियों को खतरा

0
22

मध्यप्रदेश न्यूज़: वर्तमान में मवेशियों में चल रहे लंपी वायरस से जिले में लगातार हालात बिगड़ते जा रहें हैं। जिले में लंपी वायरस से पीड़ित पशुओं का आंकड़ा एक हजार के पार पहुंच गया है। जिले का अगर सरकारी आंकड़ा देखा जाए तो 419 गांवों के 1170 पशु लंपी वायरस की चपेट में आ चुके हैं। 20 से अधिक पशुओं की अब तक मौत हो चुकी है। पशु विभाग द्वारा रिकवरी रेट अच्छे होने और टीके लगाने के बात लगातार रटी जा रही है। हकीकत देखी जाए तो जिले में वैक्सीन का स्टॉक खत्म हो चुका है। अधिकारियों द्वारा वैक्सीन के लिए प्रयास किए जा रहे हैं।

मध्यप्रदेश न्यूज़: जिले शुरूआती दौर में दो गायों के लक्षण देख सैंपल लैब भेजें गए थे, जिनकी रिपोर्ट पाज़िटिव आई थी। इसके बाद से लगातार जिले में लंबी वायरस के मामले बढ़ते ही जा रहे हैं। विभाग के अनुसार स्वस्थ पशुओं को सुरक्षित घेरे में लाने के लिए राजस्थान से सटे हुए इलाकों एवं सभी गौशालाओं में पशुओं को टीके लगाए जा चुके हैं। अब तक जिले में 24 हजार 921 टीके लगाए जा चुके हैं लेकिन अभी भी स्वस्थ पशुओं पर लंपी वायरस का खतरा मंडरा रहा है। जिले में वैक्सीन का स्टॉक खत्म हो चुका है जिससे पशुओं को सुरक्षित घेरे में लाने की गति भी धीमी पड़ गई है। मंदसौर जिले में वायरस पूरी तरीके से फैल चुका है। इसकी जानकारी स्वयं पशुपालकों द्वारा दी जा रही है। चिकित्सकों की कमी के चलते पशु पालकों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। पशु चिकित्सकों द्वारा जानकारी दी जा रही है कि रोजाना करीब 30 पशुपालक द्वारा फोन लगाए जा रहे हैं। कई बार तो ऐसी स्थिति बन रही है कि चिकित्सक द्वारा पहुंच नहीं पाने पर फोन पर ही जानकारी दी जा रही है।

अब तक 20 गायों ने तोड़ा दम, 958 रिकवरी की स्थिति में

मध्यप्रदेश न्यूज़: लंपी वायरस के चलते जिला में अब तक करीब 20 से अधिक गायों ने दम तोड़ दिया है। यहां सरकारी आंकड़े बताए जा रहे हैं जबकि हकीकत में आंकड़े कई आगे पहुंच चुके हैं। प्रदेश के 11 जिलों में वायरस के कारण पशुओं की मौत होने की खबर सामने आई है। इन जिलों में मंदसौर का नाम भी शामिल है। सीएम शिवराज की बैठक के बाद आज हाई अलर्ट हो गया है। विभाग के अनुसार 1170 गायों में से 958 रिकवरी की स्थिति में नजर आ रही है। अन्य गायों का पशु चिकित्सकों द्वारा लगातार उपचार किया जा रहा है। चिकित्सकों के अनुसार देसी गाय का उपचार होने के 3 दिनों बाद वह चारा खाने लग जाती है लेकिन जर्सी गायों को ठीक होने में समय लग रहा है। पशुपालन विभाग के उपसंचालक डा. मनीष इंगोले का कहना है कि वैक्सिन को लेकर आगे डिमांड भेजी गई है। इसी सप्ताह में वैक्सीन प्राप्त हो जाएगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here