शराब नीति मध्यप्रदेश न्यूज़: मध्यप्रदेश में शराबबंदी के मुद्दे पर BJP नेत्री और पूर्व CM उमा भारती ने यू-टर्न ले लिया है। शिवराज सरकार से नाराज दिखाई देने वाली उमा ने अब कहा है कि शिवराज जी ने शराब नीति में बदलाव का भरोसा दिया है। खुद सरकार गांधी जयंती पर प्रदेश में बढ़ रही शराब एवं नशे की लत के खिलाफ जागरूकता का कार्यक्रम करेगी। हालांकि, वे 2 अक्टूबर को भोपाल में महिलाओं के साथ मार्च निकालने की बात कह रही है।

मध्यप्रदेश शराब नीति 2022 : इससे पहले उमा शराब के मुद्दे पर शिवराज सरकार को घेर चुकी है। भोपाल की शराब दुकान में पत्थरबाजी करने के साथ समय-समय पर वे आंदोलन भी करती रही है। करीब दो महीने पहले उन्होंने बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा को 3 पेज का लेटर लिखा और इसे सार्वजनिक भी किया था। लेटर में उन्होंने इस मुद्दे पर अपनी पीड़ा जाहिर की थी। उमा ने सभी भाजपा शासित राज्यों में एक जैसी शराब नीति लागू करवाने की मांग भी की थी। उन्होंने लिखा था कि मध्यप्रदेश में शराबबंदी पर मैं लगातार सक्रिय हूं, फिर कल जब घुटन महसूस हुई, तब प्रेस विज्ञप्ति और ट्वीट किए। अभी से लेकर अक्टूबर तक मैं अकेले ही शराब की दुकानों व अहातों के सामने खड़ी होऊंगी, फिर अक्टूबर में गांधी जयंती पर भोपाल की सड़कों पर महिलाओं के साथ मार्च करूंगी, इसलिए जो भी इसके समर्थन में हों, अपने स्तर से प्रयास करें। 

मैं रिपोर्ट कार्ड बता रही:- उमा भारती

मध्यप्रदेश शराब नीति: उमा ने शुक्रवार को भोपाल में कहा कि शराब को लेकर मैं अपना रिपोर्ट कार्ड बता रही है। 2 अक्टूबर को मुख्यमंत्री खुद बड़े स्तर पर जागरूकता कार्यक्रम आयोजित करवा रहे हैं और नीति में सुधार करवाने का भरोसा दिलाया है। फिर भी मैं 2 अक्टूबर को भोपाल में मार्च निकालूंगी। पीर गेट पर कर्फ्यू वाली माता मंदिर से कंकाली मंदिर और फिर कुशाभाऊ ठाकरे हॉल (मिंटो हॉल) तक आऊंगा। यहां गांधी प्रतिमा के आसपास कार्यक्रम करेंगे। महिलाएं अपनी भावनाओं को प्रस्तुत करेंगी। मैं सरकार के कार्यक्रम में शामिल रहूंगी। मेरे प्रयत्न को शिवराज जी ने सार्थक किया है। कई बार मैं चूप इसलिए होती थी कि शिवराज जी कुछ बोलें। ब्यूरोक्रेसी, आबकारी, वित्त, राजस्व आदि अपना विषय बताते हैं। उन्होंने कहा- शराब एक सामाजिक बुराई है, लेकिन राजनीतिक मुद्दा नहीं। इसलिए जब तक समाधान परक स्थिति नहीं हो जाएगी, तब तक वे इस बुराई से लड़ती रहेंगी।

प्राइवेट सेक्टर में आर्थिक आधार पर मिले 10% आरक्षण


शराब नीति 2022-23 :- शराब को लेकर नीति में बदलाव करने समेत उमा भारती ने प्राइवेट सेक्टर में आर्थिक आधार पर 10% आरक्षण देने की मांग की। इसमें चाहे एससी, एसटी, ओबीसी हो या गरीब सवर्ण, उन्हें प्राइवेट सेक्टर में आरक्षण मिलना चाहिए।

उषा ठाकुर के बयान से सहमत, रणवीर-आलिया के महाकाल दर्शन न करने पर भी बोलीं


शिवराज सरकार में संस्कृति मंत्री उषा ठाकुर ने लव जिहाद और गरबा पंडाल को लेकर ग्वालियर में बड़ा बयान दिया था। इससे उमा भारती सहमत दिखाई दी। जबलपुर में बिशप के घर ईओडब्ल्यू के छापे पर कहा- जांच होना चाहिए कि पैसा कहां लगता था। रणवीर कपूर और आलिया भट्‌ट के महाकाल मंदिर में प्रवेश नहीं कर देने पर उमा ने कहा कि हमें अपने धर्म स्थलों को संकीर्णता से नहीं बांधना चाहिए। दर्शन करने से नहीं रोकना चाहिए। हालांकि, असली बात महाकाल ही जानते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *