केंद्र से मिले 28.91 करोड़ रुपये में होगा शिवना शुद्धीकरण का कार्य

मंदसौर मध्यप्रदेश न्यूज़:  पर्यावरण मंत्री हरदीपसिंह डंग द्वारा किए गए प्रयासों से केंद्र सरकार के क्लीन गंगा मिशन के तहत शिवना शुद्धीकरण के लिए स्वीकृत हुए 28.91 करोड़ रुपये से अब काम शुरू होने की स्थिति आ गई हैं। इसके लिए पीआईयू द्वारा टेंडर निकालने की तैयारी की जा रही है। अक्टूबर में इसका कार्य प्रारंभ हो जाएगा तथा 26 माह बाद दिसंबर 2024 में पूर्ण हो जाएगा। इसके तहत रामघाट से मुक्तिधाम छोटी पुलिया तक बड़ा खुला नाला बनाया जाएगा। जिसमें शिवना नदी में मिलने वाले सभी नालों का गंदा पानी छोड़ेंगे। मुक्तिधाम के आगे प्लांट बनाकर पानी को साफ करके आगे छोड़ा जाएगा। इसके साथ ही नए घाट बनाए जाएंगे।

मध्यप्रदेश न्यूज़: यह सारी जानकारी शिवना शुद्धीकरण को लेकर कलेक्टोरेट सभागृह में हुई बैठक में दी गई। बैठक में सांसद सुधीर गुप्ता एवं विधायक यशपालसिंह सिसौदिया ने बताया कि पीआइयू सितंबर के प्रथम सप्ताह में शिवना शुद्धीकरण से संबंधित पावर पाइंट प्रजेंटेशन बनाकर प्रस्तुत करें। जिससे शिवना शुद्धीकरण के संबंध में व्यवस्थित निर्णय लिया जा सके। शिवना शुद्धीकरण से संबंधित योजना एप्को द्वारा बनाई गई है। अगली बैठक में एप्को के अधिकारी ही शुद्धीकरण के संबंध में विस्तार से बताएंगे। इसके साथ ही शिवना नदी में कितना गंदा पानी आता है तथा मशीन द्वारा कितना गंदा पानी साफ किया जाएगा। इस बारे में भी बताया जाएगा। बैठक के दौरान बताया गया कि शिवना शुद्धीकरण का कार्य 28.91 करोड़ रुपये की लागत से पूर्ण होगा। इसके लिए एनआइटी तथा टीएस प्रोसेस में हैं। अक्टूबर में कार्य प्रारंभ हो जाएगा तथा दिसंबर 2024 में पूर्ण होगा। कार्य के दौरान इसमें बड़ा खुला नाला बनाया जाएगा। खुला नाला बनने से जाम होने की समस्या नहीं रहेगी। 880 मीटर लंबा नाला रामघाट से मुक्तिधाम छोटी पुलिया तक जाएगा। इसमें सभी नालों का गंदा पानी जाएगा। मुक्तिधाम के आगे फिल्ट्रेशन प्लांट बनेगा वहां से पानी को साफ करके आगे छोड़ा जाएगा। इसके साथ ही नए घाट बनाए जाएंगे। बैठक में नगर पालिका अध्यक्ष रमादेवी बंशीलाल गुर्जर, भाजपा किसान मोर्चा राष्ट्रीएय उपाध्य क्ष बंशीलाल गुर्जर, शिवना शुद्धीकरण समिति सदस्य सहित अन्य अधिकारी व कर्मचारी मौजूद थे।

मध्यप्रदेश न्यूज़: गौरव दिवस की बैठक के दौरान सम्राट यशोधर्मन की प्रतिमा की चयनित अंतिम स्केच सभी को दिखाया गया। इसके साथ ही प्रतिमा के लिए समिति बनाने का भी निर्णय लिया गया। आदमकद मूर्ति की स्थापना कहां पर की जाएगी। इसके लिए बैठक के दौरान मेडिकल कालेज, कृषि उपज मंडी तथा नयाखेड़ा हाइवे ट्रीट स्थलों का चयन किया गया। अगली बैठक में इन तीनों स्थानों में से किसी एक स्थान का अंतिम चयन किया जाएगा। गौरव दिवस के दौरान आयोजित किए जाने वाले विभिन्ना कार्यक्रमों तथा गतिविधियों के लिए उप समितियों के निर्माण के लिए सदस्यों का चयन भी बैठक के दौरान किया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *