मध्यप्रदेश न्यूज़: भगवान पशुपतिनाथ महादेव मंदिर शिखर पर ध्वजा चढ़ाने का आयोजन किया गया, भगवान पशुपतिनाथ महादेव मंदिर भक्तों द्वारा संचालित किया गया भंडारा। 56 क्विंटल सामग्री से बनाया गया भगवान पशुपतिनाथ के लिए छप्पन भोग। जिसे 1001 थाल में सजाकर बाबा को चढ़ाया गया। इसके बाद 11 बजे सुबह पंचामृत से किया गया पशुपतिनाथ का महारुद्राभिषेक।

मध्यप्रदेश न्यूज़: मंदसौर भूतभावन भगवान श्री पशुपतिनाथ महादेव मंदिर रविवार को छप्पन भोग की महक से सुगंधित हो उठा। पशुपतिनाथ मंदिर में सुबह से ही मंदिर का नजारा बदल गया। सुबह आठ बजे से ही हवन, पूजन, मंत्रोच्चार की गूंज से मंदिर परिसर गुंजायमान रहा। भक्तों द्वारा भंडारे और प्रसादी का आयोजन किया गया। दोपहर तीन बजे 1001 थाल में छप्पन भोग बाबा पशुपतिनाथजी को चढ़या गया। इस कार्यक्रम के दौरान दिनभर बाबा के दरबार में आयोजन होते रहे और भक्त प्रसादी का आनंद लेते रहे। सुबह मंदिर शिखर पर विधि-विधान से भक्तों द्वारा ध्वजा भी चढ़ाई गई। इस अवसर पर भगवान श्री पशुपतिनाथजी की अष्टमुखी प्रतिमा का अर्धनारीश्वर श्रृंगार किया गया और प्रसादी का आयोजन किया गया।

मध्यप्रदेश न्यूज़: शिवना तट पर विराजित भगवान श्री पशुपतिनाथ महादेव को प्रातःकालीन आरती मंडल द्वारा रविवार को छप्पन भोग लगाया गया। 56 क्विंटल सामग्री से बना छप्पन भोग 1001 थाल में सजाकर बाबा को चढ़ाया गया। वहीं भगवान का मनमोहक श्रृंगार किया गया। सुबह आठ बजे पूजन अर्चन किया गया। महारुद्र पाठ हुआ, सुबह 11 बजे पंचामृत से महारुद्राभिषेक किया गया। इस अवसर पर हवन भी हुआ। सांसद सुधीर गुप्ता, नपाध्यक्ष रामादेवी गुर्जर, पूर्व विधायक राधेश्याम पाटीदार, भाजपा किसान मोर्चा राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बंशीलाल गुर्जर भी उपस्थित हुए। मंदिर शिखर पर विशाल ध्वजा मंडल सदस्यों द्वारा पूजन-अर्चन कर च़ढ़ाई गई साथ ही परिसर में स्थित अन्य मंदिरों के शिखर पर भी ध्वजा चढ़ाई गई। महाअभिषेक कर भगवान को फूलों, चंदन, अबीर, गुलाल, अक्षत, कमल के फूलों से विशेष श्रृंगार किया गया। इसके बाद शुद्ध देशी घी से बनी छप्पन भोग की मिठाइयों का नैवेद्य भगवान को अर्पण किया गया। शाम को भजन संध्या का आयोजन भी हुआ। दर्शन के लिए दिनभर भक्तों की भीड़ रही। सुबह से मौसम सुहाना हो गया था। भक्त शहर सहित ग्रामीण अंचलों से दिन-भर दर्शन करने आते रहे। देर शाम तक मंदिर पर भक्तों की भीड़ रही।

मध्यप्रदेश न्यूज़:  भगवान श्री पशुपतिनाथ महादेव का मावा, भांग, सूखे मेवे सहित हीरे-मोती, नग-नगीने, केसर, इलायची, अबीर, गुलाल,अक्षत, कंकू, चंदन अन्य सामग्री से अर्धनारीश्वर श्रृंगार किया गया। सभी मुखों का अलग-अलग मनमोहक श्रृंगार किया गया। भगवान को फूलों से बनी विशेष पगड़ी पहनाई गई। मंदिर गर्भगृह में लगाए गए छप्पन भोग के नैवेद्य में मक्खनबड़ा, केसर रोल, मोहन भोग, मोतीपाक, मैसूर पाक, इमरती, जामुन, घेवर, इमरती, बर्फी, चूरमे के लड्डू, पेड़ा, नमकीन मठरी, मीठी कचोरी, बेसन चक्की, उड़द की फेनी, सलामी पेड़े, बेसन पपड़ी, अजवाइन पपड़ी सहित अनेक मिठाईयों व व्यंजनों का नैवेद्य अर्पित किया गया। रविवार को भगवान श्री पशुपतिनाथ मंदिर परिसर में स्थित राम मंदिर धर्मशाला में भंडारे का आयोजन हुआ। भगवान श्री पशुपतिनाथजी के भक्तों की ओर से आयोजित हुआ भंडारा सुबह से शाम तक चलता रहा। दिनभर में 10 हजार से अधिक भक्तों ने भंडारे में शामिल होकर प्रसादी ग्रहण की|

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *