मंदसौर: बेटा समझ जिसे खाना खिलाया, उसी ने पैसों की लालच में शिक्षिका को मार डाला, पुलिस ने किया खुलासा

0
25

बेटा समझ जिसे खाना खिलाया, उसी ने कर दी हत्या 

मंदसौर पुलिस ने 65 वर्षीय शिक्षिका की हत्या का चौंकाने वाला खुलासा किया है। कुछ दिनों पहले मंदसौर शहर के पद्मावती नगर के एक मकान में रिटायर्ड शिक्षिका का शव बाथरूम में पड़ा मिला था। पुलिस ने मामले की जांच करते हुए चौंकाने वाला खुलासा किया है। रिटायर्ड शिक्षिका के घर में उनके अलावा कोई और नहीं रहता था इसलिए वह जिसे बेटा मान कर अक्सर खाना खिलाया करती थी उसी बेटे ने शिक्षिका को प्रॉपर्टी की लालच में मौत की नींद सुला दिया। हत्या के बाद आरोपी ने लूटपाट की और उसके बाद शिक्षिका के शव को बाथरूम में फेंक कर घर के बाहर ताला लगाकर फरार हो गया‌। पुलिस घर के बाहर लगे ताले से ही आरोपी तक पहुंची है। शिक्षिका की हत्या का आरोपी मोहल्ले में ही पंचर की दुकान का संचालक निकला। 

अय्याशी के चलते आरोपी पर कर्जा बढ़ गया था

पुलिस ने जानकारी देते हुए बताया कि हत्यारे की मोहल्ले में ही पंचर की दुकान है। शिक्षिका उसे अपने बेटे की तरह मानती थी। अय्याशी के चलते दुकान संचालक पर कर्जा बढ़ गया था और इसी से मुक्त होने के लिए आरोपी ने शिक्षिका को मारने की साजिश रची थी। एसपी अनुराग सजानिया ने जानकारी देते हुए बताया कि 12 फरवरी की रात को पुलिस को सूचना मिली थी कि रिटायर्ड शिक्षिका काश बाथरूम में पड़ा मिला है। घर के बाहर ताला लगा हुआ था और शिक्षिका के दोनों फोन बंद आ रहे थे। पुलिस ने बताया कि महिला घर पर अकेली रहती है और उसका भाई अलग रहता था। आरोपी हेमंत व्यास गली में दुकान संचालित करता था। जान पहचान होने से वह शिक्षिका के छोटे-मोटे काम कर देता था और शिक्षिका बेटा समझकर उसे खाना खिला देती थी। 

आरोपी ने कैसे की शिक्षिका की हत्या

आरोपी शिक्षिका के घर आवेदन बनाने के लिए घर पहुंचा था। आरोपी ने घर जाकर कहां कि कुछ खाने को दे दो मुझे भुख लगीं है। शिक्षिका आरोपी को अपने बेटे की तरह मानती थी। इसलिए शिक्षिका खाना लेने के लिए किचन में चली गई। इस दौरान आरोपी पीछे से किचन में पहुंचा और शिक्षिका के सिर पर जोरदार वार किया और उनकी हत्या कर दी। हत्या के बाद आरोपी शिक्षिका के गले से सोने की चेन पर्स में रखे 20000 और मोबाइल चुरा कर भाग गया। हत्या के बाद बाहर का ताला लगा कर आरोपी अपनी दुकान पर चला गया। आरोपी हेमंत व्यास की उम्र 32 वर्ष है जिसे दारू सट्टा और अय्याशी की लत लग चुकी थी। उसे परेशान होकर उसकी मां अपने रिश्तेदार के वहां उदयपुर जाकर रहने लगी। पिता की मौत हो चुकी है और आरोपी पर 200000 का कर्जा हो गया था। यही कर्जा उतारने के लिए आरोपी ने शिक्षिका की हत्या कर दी

पुलिस को कैसे हुआ हत्या का शक

आरोपी ने बहुत ही दिमाग लगाकर शिक्षिका की हत्या की थी और शव को बाथरूम में फेंक दिया था। जब पुलिस ने शुरुआती जांच की तो पुलिस को भी यह एक्सीडेंट लग रहा था लेकिन आरोपी की एक छोटी सी गलती ने उसे सलाखों के पीछे पहुंचा दिया। आरोपी ने महिला की हत्या करने के बाद घर के बाहर ताला लगा दिया था। इसके बाद पुलिस ने मामले की जांच शुरू की। पड़ोसियों ने बताया कि शिक्षिका हमेशा घर में इंटरलॉक ही करती थी। घर के बाहर कभी भी शिक्षिका ताला नहीं लगा दी थी। आरोपी का रोजाना घर पर आना जाना रहता था और पुलिस ने जब आरोपी को हिरासत में लेकर पूछताछ की तो मामले का खुलासा हो गया। 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here