85 लाख ₹19000 का किया घोटाला, घोटाला करने वाले को भेजा जेल।






जावत के नगर परिषद तत्कालीन सहायक के कर्मचारी सत्येंद्र यादव ने जिंदा लोगों को मृत्य बता कर शासन से मिलने वाली साक्षी को अन्य खातों में डाल दी गई। जिसके बाद विभिन्न खाते दारों से वापस निकाल दी गई। जब यादव का ट्रांसफर मनासा किया गया उसके बाद उसके द्वारा की गई हेराफ़ेरी का पता चला। इसके बाद यादव के खिलाफ जांच शुरू की गई। जांच के अनुसार यादव ने 74 हीद्रयो  के नाम पर शासन के 85 लाख 19 हजार का गबन किया।

तत्पश्चात नगर परिषद सीएमओ जेजे शर्मा ने लिखित में पुलिस थाने में शिकायत दर्ज कराई। पुलिस ने यादव के खिलाफ विभिन्न धाराओं के माध्यम से शिकायत दर्ज करें। पुलिस ने यादव को मंगलवार को गिरफ्तार कर जावद न्यायालय में पेश किया। जहां यादव को 28 जनवरी तक पुलिस रिमांड पर सौंपा गया था। यादव को शुक्रवार को पुनः न्यायालय में पेश किया गया। जहां से उसे जेल भेज दिया गया। 

यादव ने पुलिस पूछताछ में गबन करना स्वीकार किया है। टीआई राजेश सिंह ने बताया कि सहायक ग्रेड 3 कर्मचारी सत्येंद्र यादव कंप्यूटर मैं अच्छा जानकार होते हुए भी डिग्री धारी है। यादव ने बताया कि श्रम होटल में कुछ तकनीकी त्रुटि का फायदा उठाते हुए 8519000 को दूसरों के खातों में ट्रांसफर किए हैं और राशि को पुनः निकाल दी गई। यादव ने 45 लाख रुपए शेयर मार्केट में लगाएं। यादव ने एक प्लाट अपनी पत्नी के नाम पर व एक लग्जरी गाड़ी भी खरीदी व अन्य रुपए अपने शौक मौज में खर्च कर लिए। 

(कृपया किसी से अपने बैंक खाते की वह अन्य जानकारियां शेयर ना करें)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *