नीमच में तेंदुए का आतंक। रात 2:00 बजे 2 तेंदुओ ने किया एक गाय का शिकार, 4 दिन में तीन मवेशियों को बनाया शिकार।

0
36

 नीमच में तेंदुए का आतंक। रात 2:00 बजे 2 तेंदुओ ने किया एक गाय का शिकार, 4 दिन में तीन मवेशियों को बनाया शिकार। 

सिंगोली तहसील क्षेत्र के गांव अल्हड़ मैं दो तीन लोjगों ने फिर से हमला कर दिया। तेंदुए ने एक गाय को घायल कर दिया। गाय के चीखने चिल्लाने से ग्रामीण एकत्र हुए और जैसे ही तेंदुए का पता चला तो वह मसाले और बड़े-बड़े डंडे अपने साथ लेकर आए और फिर कुछ देर तक उन तेंदुआ का पीछा किया लेकिन खेतों में फसल होने के कारण तेंदुए उनमें छुप-छुपकर जंगल की ओर भाग गए। अल्हड़ निवासी नवरत्न धाकड़ ने बताया कि बुधवार रात 2:00 बजे दो लड़के अपनी गाड़ी से गांव की ओर जा रहे थे तभी उन्होंने एक बाड़े में दो तेंदुए को एक गाय पर हमला करते हुए देखा। और उन्हें देखकर वह दो युवक चिल्लाने लगे उसके चीखने चिल्लाने से ग्रामीण अग्नि मशाल और लाठी-डंडों के साथ वहां पहुंचे।


ग्रामीणों ने देखा कि एक तेंदुए ने गाय की गर्दन पकड़ रखी थी और दूसरे ने पीछे से गाय को दबोच रखा था। जैसे ही वह लोग शोर मचाते हुए वहां पहुंचे वैसे ही वह दोनों तेंदू है फसल से भरे खेतों में होकर जंगल की ओर भाग गए।







4 दिनों से लगातार तेंदुआ का आतंक बढ़ता ही जा रहा है पिछले 4 दिनों में तेंदुए ने तीन मवेशियों को अपना शिकार बनाया। इससे गांव वालों में दहशत में बैठ गई है इसके पूर्व शनिवार रविवार की रात को एक गाय को और सोमवार मंगलवार की रात को एक बछड़े को शिकार बनाया है। वन विभाग वालों ने पद चिन्ह को देखते हुए बताया कि मवेशियों को तेंदुए ने मारा है वहीं बुधवार रात दोनों तेंदुए ने एक गाय को फिर शिकार बनाया। वन विभाग वालों की माने तो मानवीय दबाव के कारण जंगली जानवर दिन में अपना शिकार नहीं कर पाते जिससे वह भूख से बिलबिला नेट के कारण गांव के पास आते जा रहे हैं। फिलहाल वन विभाग वालों ने गांव वालों को कहा कि उनका समूह रात को मशाल लेकर जानवरों को गांव में आने से रोकेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here