दो भाइयों ने मिलकर नाबालिक को मारा और शव कुएं में फेंक दिया 2022

दो भाइयों द्वारा एक नाबालिग की हत्या कर उसे कुएं में फेंक दिया गया। नीमच न्यायालय में नाबालिग की हत्या कर कुएं में शव फेंकने वाले दोनों भाइयों को आजीवन कारावास की सजा सुना दी गई है। आजीवन कारावास की सजा सुनाने के साथ-साथ दोनों आरोपियों पर ₹3000 का जुर्माना भी लगाया गया है। नीमच न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश द्वारा दोनों आरोपियों को सजा सुनाई गई है। विशेष लोक अभियोजक जगदीश चौहान द्वारा घटना की जानकारी देते हुए बताया गया कि सात फरवरी को फरियादी दीपक बांछड़ा का साला दिनेश उम्र 16 वर्ष शाम करीब 6:00 बजे गांव ओछडा से स्कूटी लेकर मनासा नोटस लेने के लिए गया था। उसके बाद वह घर वापस नहीं आया था। इसके बाद फरियादी की पत्नी ज्योति के मोबाइल पर रात 8:30 बजे दिनेश के मोबाइल से कॉल आया जिसमें अज्ञात भक्ति बोल रहा था और उसने कहा कि 2000000 रुपए दे जाओ और दिनेश को ले जाओ।

थाने में रिपोर्ट दर्ज करवाई गई

अज्ञात आरोपी का फोन आने के बाद फरियादी दीपक ने यह रिपोर्ट थाने में दर्ज करवाई और पुलिस ने मामला दर्ज किया। इसके बाद 11 फरवरी को पालना गांव की तलाई में स्थित सत्यनारायण नागदा के कुएं में अज्ञात शव मिला। शव की जब जानकारी जुटाई गई तो वह दिनेश बांछड़ा का था। शव मिलने के बाद पुलिस ने मामले की खोजबीन तेज कर दी थी और किसी व्यक्ति ने पुलिस को सूचना दी थी। उसके आधार पर पुलिस ने एक बाल आरोपी को गिरफ्तार करते हुए पूछताछ की तो उसने बताया कि लगभग 7 महीने पहले वह उसके दोस्त बबलू और कमल के साथ बर्डिया गए थे। वहां पर नशे में उनका दिनेश से विवाद हो गया था।  इसी बात का बदला निकालने के लिए उन्होंने पेपर देने के बहाने दिनेश को मनासा बुलाया था। इसके बाद वह तीनों दिनेश को उनके खेत पर ले गए और वहां जाकर उसे जमीन पर पटक दिया। इसके बाद तीनों आरोपियों ने मिलकर दिनेश की हत्या कर दी। इसके बाद तीनों आरोपियों ने मिलकर दिनेश की स्कूटी को वेयर हाउस के पास स्थित तालाब में फेंक दिया और उसके शव को साड़ी से बांधकर सत्यनारायण के कुएं में फेंक दिया।

आरोपियों ने दिनेश को मारने के बाद उसके घर वालों को फोन लगाया

जब आरोपियों ने दिनेश को मार डाला और उसका शव कुएं में फेंक दिया तो उसके बाद पुलिस को शक नहीं हो और पुलिस को ऐसा लगे कि दिनेश का अपहरण किया गया है इसलिए उन्होंने दिनेश के ही फोन से दिनेश की बहन ज्योति को फोन लगाकर 2000000 रुपए की मांग की। विवेचना के दौरान मनासा पुलिस ने तीनों आरोपियों को गिरफ्तार किया और उनके बताए गए स्थानों से स्कूटी और मोबाइल को बरामद किया। इसके बाद दोनों भाइयों को न्यायाधीश के सामने पेश किया गया जहां पर न्यायाधीश द्वारा दोनों आरोपी कमल पुत्र तुलसीराम उम्र 24 और बबलू को उम्र कैद की सजा सुना दी गई।  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *