मंडी प्रशासन ने प्रांगण में फैल रहे स्थाई और अस्थाई अतिक्रमण को हटाया 2021

मंदसौर में काफी लंबे समय बाद ही सही लेकिन मंडी प्रांगण में लगातार फैल रहे स्थाई अतिक्रमण पर अब की बार प्रशासन ने एक्शन ले ही लिया है और लंबे समय से हो रहे अतिक्रमण को लेकर मंडी प्रशासन ने हटा दिया। अतिक्रमण को हटाने के दौरान मंडी प्रशासन के अधिकारी और मंडी गार्ड के साथ अन्य अमला भी वहां मौजूद रहा। जानकारी में बताया गया है कि मंडी प्रांगण में धीरे धीरे रसूख खोरो के दम पर अतिक्रमण फैलता ही जा रहा था इसको लेकर कई मीडिया वालों ने खबरें भी प्रकाशित की थी। इसी के बाद मंडी प्रशासन का ध्यान अतिक्रमण की तरफ आकर्षित हुआ और प्रशासन ने अतिक्रमण हटाने का संज्ञान लिया।

दिन भर चली स्थाई और अस्थाई अतिक्रमण हटाने की प्रक्रिया

मंडी प्रशासन में अतिक्रमण की तरफ ध्यान दिया और इस पर अतिक्रमण को हटाने की योजना बनाई। इसके बाद मंडी प्रशासन द्वारा इस डीएम और एसपी को पत्र भेजे गए और आदेश मिलने के बाद मंडी प्रशासन ने पूरे दिन मंडी प्रांगण में फैल रहे स्थाई और अस्थाई अतिक्रमण को हटाया। अतिक्रमण इतना फैल गया था कि कई व्यापारियों ने पतरे तो कई व्यापारियों ने शेड लगाने के साथ पक्का अतिक्रमण कर लिया था। इसी कारण सीजन के समय जब बंपर आवक होती है तो प्रांगण में किसानों को जगह नहीं मिल पाती है और उन्हें मंडी के बाहर लाइनों में खड़ा रहना पड़ता है। अतिक्रमण के कारण मंडी की व्यवस्था बिगड़ती जा रही है।

किसानों को कई दिन मंडी के बाहर लाइनों में गुजारने पड़ते हैं

मंडी में व्यापारी द्वारा किए जा रहे स्थाई और अस्थाई अतिक्रमण के कारण मंडी की व्यवस्था बिगड़ती जा रही है और किसानों को इसी कारण मंडी में खड़े रहने की जगह नहीं मिल पाती है और कई दिनों तक वाहन समेत किसानों को मंडी के बाहर ही दिन गुजारने पड़ते हैं। ऐसे में लंबे समय बाद मंडी प्रशासन ले प्रांगण में फैल रहे अतिक्रमण को लेकर सख्ती दिखाई है और इसे पूरी तरह से हटाने की कार्यवाही की है। हालांकि अभी भी मंडी में कई जगह पर अतिक्रमण फैला हुआ है। मंडी सचिव पर्वत सिंह सिसोदिया ने बताया कि मंडी प्रांगण में किए गए अतिक्रमण को लेकर पूर्व में व्यापारियों को नोटिस दिया गए थे लेकिन इसके बाद भी जब उन्होंने अपने अतिक्रमण को नहीं हटाया तो उन्हें प्रशासन द्वारा हटाया गया है। यह प्रक्रिया अब निरंतर जारी रहेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *