मंदसौर में नगर पालिका और स्वास्थ्य विभाग की लापरवाही के कारण अब डेंगू बेकाबू हो गया है और 2 दिन में 100 केस सामने आ चुके हैं। नगर पालिका ने पहले लारवा नष्ट करने में लापरवाही बरती थी इसलिए अब डेंगू का प्रकोप बढ़ रहा है। मंदसौर जिले में डेंगू के मरीज 500 का आंकड़ा छूने वाले हैं। इतने मरीज पहली बार मंदसौर जिले में 1 वर्ष में सामने आए हैं। इससे पहले का आंकड़ा  देखा जाए तो जिले में पिछले 4 सालों में सिर्फ डेंगू के 138 केस सामने आए हैं लेकिन इस बार सिर्फ 2 महीनों के अंदर 475 केस सामने आ चुके हैं। मंदसौर में इतने के सामने आने के बाद प्रशासन जागरूक हुआ है और अब प्रशासन ने सख्ती दिखाना शुरू की है।

नगर पालिका ने जुर्माना लगाना भी शुरू कर दिया है

सबसे अधिक डेंगू लंबे समय तक किसी एक स्थान पर पानी भरा रहने के कारण पैदा होते हैं और इसीलिए नगर पालिका ने अब जिन स्थानों पर लंबे समय से पानी भरा हुआ है उन पर जुर्माना लगाना शुरू कर दिया है। शुरुआत में नगर पालिका द्वारा ₹100 जुर्माना लिया जा रहा है लेकिन अगर हालत में सुधार नहीं आया तो नगरपालिका द्वारा यह जुर्माना बढ़ाकर ₹500 तक कर दिया जाएगा। स्वास्थ्य विभाग और नगर पालिका के कर्मचारी जगह-जगह पर फागिंग कर रहे हैं। स्वास्थ्य विभाग और नगर पालिका द्वारा पहले लाल बाल स्टेट करने में रुचि नहीं बताई गई थे और उसी का परिणाम आज हमें देखने को मिल रहा है कि रोजाना जिले में डेंगू के कई मरीज सामने आ रहे हैं। इसी को लेकर विभाग द्वारा सर्वे किया जा रहा है।

यह हो सकता है काफी खतरनाक

मंदसौर जिले में अचानक इतने डेंगू के मरीज सामने आने के बाद प्रशासन सतर्क हो गया है और कलेक्टर मनोज पुष्प इसी को लेकर बैठक रखी जिसमें फैसला लिया गया कि स्थानों पर लंबे समय से पानी भरा है उसे वहां से हटाया जाए और ऐसे लापरवाह लोगों पर कार्यवाही की जाए जो पानी को लंबे समय से भरा रखते हैं और उपयोग में भी नहीं लेते हैं। कलेक्टर द्वारा दिए गए आदेश के बाद नगर पालिका ने अभी तक 7 लोगों पर चालानी कार्यवाही कर ली है। जिसमें उन पर जुर्माना लगाया गया है। यह इसलिए किया जा रहा है क्योंकि डेंगू के मरीज लगातार सामने आ रहे हैं और अगर इसे रोका नहीं गया तो यह हमारे लिए काफी खतरनाक साबित हो सकता है।

मंदसौर शहर और सीतामऊ तहसील में मिल रहे सबसे अधिक मरीज

डेंगू के सबसे अधिक मरीज मंदसौर सीतामऊ तहसील में मिल रहे हैं। कलेक्टर मनोज कुछ बनने की स्थिति में सुधार नहीं होने के बाद ₹500 तक जुर्माना लगाने का आदेश दे दिया है। प्रशासन ने अब डेंगू को रोकने के लिए तेजी से कार्य शुरू कर दिया है। धीरे-धीरे स्थिति में सुधार लाया जाएगा। मलेरिया अधिकारी करण सिंह भूरिया का कहना है कि तेजी से लार्वा नष्ट करना और सर्वे करना शुरू कर दिया है। आप की भी जिम्मेदारी बनती है कि खुद को स्वस्थ रखें। अगर कहीं पर लंबे समय से पानी पड़ा हुआ है तो उसे उपयोग नहीं करें और मच्छर होने वाले स्थानों पर दवाई का छिड़काव करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *