पिपलिया मंडी में जल संकट: सूखने लग गया है पानी का मुख्य स्त्रोत, आज से 2 दिन छोड़कर मिलेगा पेयजल

0
6

 

पिपलिया मंडी नगर में जल संकट के आसार दिखाई दे रहे हैं।नगर परिषद द्वारा 2 दिन छोड़कर पेयजल वितरण करने की तैयारी की गई है। 8 फरवरी से नगर में 2 दिन छोड़कर जल का वितरण किया जाएगा। भाई साहब के अधिकारियों का कहना है कि जल संकट इतना भी नहीं है। जून तक जल वितरण किया जा सकेगा। अधिकारियों ने कहा है कि घबराने की जरूरत नहीं है हमारे पास इतना पानी तो है कि हम मई-जून तक लोगों की जरूरतें पूरी कर सके। फिर भी प्रशासन ने अभी से सतर्क रहना शुरू कर दिया है क्योंकि पिपलिया मंडी का मुख्य जल स्त्रोत धीरे धीरे सूखता जा रहा है।

पिपलिया मंडी में 3000 से भी अधिक नल कनेक्शन है

पिपलिया मंडी में लगभग 3000 से भी ज्यादा नल कनेक्शन है। मुख्य जल स्त्रोत सूखने की कगार पर है। शनिवार को चल कल कर्मचारी इब्राहिम मेंव, भागीरथ कैथवास, नंदकिशोर गुर्जर,पंकज आदि ने मोहल्ले वालों में पहुंचकर लोगों से पानी को व्यर्थ नहीं करने तथा 2 दिन में जल प्रदान किए जाने की सूचना भी दी। नव कर्मियों ने बताया कि नगर में पेयजल वितरण का मुख्य स्त्रोत भैसा खेड़ा में स्थित काका गाडगिल डैम है। अबकी बार कम वर्षा होने के कारण डैम में पर्याप्त पानी नहीं भरा था। इसलिए अबकी बार पानी की समस्या जल्दी ही निकट आ गई है। फरवरी में ही है सूखने की कगार पर पहुंच गया है। इससे खुदाई कर नहर के माध्यम से पानी गड्ढों में सहेज कर इंटकवेल के जरिए टंकियों तक पहुंचाया जा रहा है। कुछ दिनों से नहर का पानी भी कम पड़ गया है। या मंडी में 8 फरवरी से 2 दिन छोड़कर जल वितरण किया जाएगा।

आखिर समस्या क्या है

अधिकारियों का दावा है कि डैम सूखने के बाद ट्यूबवेल व नपा के कुओ से नगर में जल वितरण की व्यवस्था की जाएगी। पेयजल का मुख्य स्त्रोत जैसा खेड़ा स्थित काका गाडगिल डैम का पानी सूखने लग गया है।पानी की कमी के चलते 2 दिन छोड़कर जल वितरण की व्यवस्था की जा रही है। जेल कर्मी इब्राहिम मेंव के अनुसार एक दिन छोड़कर 40 मिनट जल वितरण होता है। अब 2 दिन छोड़कर 40 मिनट जल वितरण किया जाएगा। पिपलिया मंडी सीएमओ गरिमा पाटीदार का कहना है कि हमारे पास 6 ट्यूबवेल और एक कुआं है। इसमें 15 फीट पानी भरा है। डैम सूख जाने पर वहां से जल वितरण किया जाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here