कांग्रेस कार्यालय के बाहर साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के खिलाफ कांग्रेस ने दिया धरना प्रदर्शन एवं ज्ञापन ।

0
10

 Mp rajnitik halchal ; मंदसौर कांग्रेस द्वारा गांधी चौराहे पर भोपाल सांसद प्रज्ञा ठाकुर के खिलाफ उन्होंने राष्ट्रपति के नाम ज्ञापन दिया जिसमें उन्होंने गया ठाकुर की लोकसभा खत्म करने की करी मांग ।

 आपको बता दें कि कुछ दिन पहले साध्वी प्रज्ञा ठाकुर ने सीहोर में सूद्धो को लेकर एक बयान दिया था जिसमें उन्होंने कहा था कि अगर ब्राह्मण को ब्राह्मण कहो तो वह बुरा नहीं मानते हैं वही अगर क्षत्रिय को क्षत्रिय कहे तो वह बुरा नहीं मानते तो सूद्धौ को सूद्ध  कहे तो वह बुरा मान जाते हैं इसी बयान को लेकर साध्वी प्रज्ञा ठाकुर बयानों के घेरे में है । 

 साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के दिए गए बयान को लेकर कांग्रेस ने प्रदेश भर में इसका विरोध किया जाता है और राष्ट्रपति के नाम ज्ञापन दिया जा रहा है कि उनकी लोकसभा सांसद खत्म करने की मांग उठाई जा रही है । कांग्रेस ने कहा कि ऐसे शब्द संविधान के खिलाफ माने जाएंगे । उन्होंने बाबा साहब अंबेडकर एवं राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद की गरिमा को अपमानित करने वाले शब्दों का प्रयोग किया है । 

वाल्मीकि समाज प्रदेश संयोजक संदीप सालोद ने मीडिया को संबोधित करते हुए कहा कि  प्रज्ञा ठाकुर हमारे लोकतंत्र की व्यवस्था में एक विशेष स्थान रखती है वह लोकसभा की सांसद है एवं इस देश के सांसद हैं गत दिनों उन्होंने एक कार्यक्रम में बयान दिया कि अगर सूद्धौ को अगर  सूद्ध कह दिया जाए तो इस तरह का बयान देकर उन्होंने एक छोटे शब्द का प्रयोग किया है उन्होंने नागपुर जहां से पाठशाला में शिक्षा ली है क्या उन्होंने वहां से वही सीखा है क्योंकि जैसी शिक्षा दी जाती है वहां सिखाया जाता है वैसे ही  शब्द कहै  है इस तरह के शब्द निश्चित रूप से संविधान के खिलाफ बोलने वाले शब्द है  इस तरह के शब्द संविधान निर्माता बाबा भीम साहब अंबेडकर जी एवं वर्तमान में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद इन दोनों की गरिमा के अनुरूप है एवं इन दोनों की अपमान करने वाले शब्दों का इस्तेमाल किया है ।

उन्होंने कहा कि हमने राष्ट्रपति महामहिम रामनाथ कोविंद जिसे बात की है कि उनकी लोकसभा सदस्यता को रद  किया जाए   । यह ज्ञापन एक साथ एक ही समय पर अनुसूचित जाति कांग्रेस ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को लिखा है और यह मांग है कि उनकी सदस्यता रद्द की जाए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here